सॉफ्टवेयर क्या है सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं?

आज के लेख में सॉफ्टवेयर क्या है सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं? (What is software, What are the types of software?) की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में बताई गई है। Internet की दुनिया है ये आप अच्छे से जानते है। Technology के समय में हमको नए नए शब्द सुनते है सुनने को मिलते है, जैसे – Software kya hai,

उक्त नामो में से आज आपको सॉफ्टवेयर के बारे में बताएंगे जैसे कि – सॉफ्टवेयर क्या है, सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते है, सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है। अगर आप कंप्यूटर, लैपटॉप या एंड्रॉयड मोबाइल का इस्तेमाल करते है तो आपको सॉफ्टवेयर के बारे में जानना बहुत जरूरी है।

आप अगर कोई कंपीटीशन एग्जाम की तैयारी कर रहे है तो आपकी जानकारी के लिए बतादे की ऐसे प्रश्न जो कंप्यूटर या मोबाइल से संबंधित रहते है जरूर पेपर में आते है, जो सम्पूर्ण मे पेपर का 20-25% प्रश्न आते है।

सॉफ्टवेयर क्या है?

सबसे पहले हमारे दिमाग में यह प्रश्न जरूर आता है कि software kya hai, SOFTWARE को हिंदी में क्या कहते है या सॉफ्टवेयर का हिंदी मीनिंग क्या है। Software का हिंदी में अर्थ “प्रक्रिया सामग्री” होता है।
सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का वह भाग है जिसको हम छू नही सकते है आप ऐसा भी कह सकते हो कि अगर हार्डवेयर इंजन है तो सॉफ्टवेयर उसके ईधन जैसा है।

यह प्रोग्रामो और क्रियाओं की वह फाइल है जो Computer Sistem के सभी कार्यों को काबू करता है व कंप्यूटर के अलग अलग हार्डवेयर के बीच में समन्वय बनाता है, जिससे किसी टारगेट प्रोग्राम को बिना किसी रुकावट के सम्पूर्ण किया जा सकता है।

सॉफ्टवेयर में कार्यों की लिस्ट होती है कौन सा कार्य कब और कैसे करना है, सॉफ्टवेयर एक आदेश है जो हार्डवेयर को करने के लिए दिए जाते है।
साधारण भाषा में बात करे तो सॉफ्टवेयर हार्डवेयर को को निर्देश देता है की कोन सा कार्य कब और कैसे करना है। सॉफ्टवेयर का फुल फॉर्म ऑपरेटिंग सिस्टम (Oprating System) होता है और Oprating System का शॉर्ट फॉर्म OS होता है।

अभी तक के लेख में आप को यह जानकारी तो मिल गई कि सॉफ्टवेयर होता क्या है लेकिन अभी यह जानना बाकी है कि सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते है, चलिए सॉफ्टवेयर के प्रकार के बारे में विस्तार से जानते है।

यह भी पढ़ें:-

सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते है?

सॉफ्टवेयर प्रकार को मुख्यतया तीन भागों में बांटा है या आप ऐसा भी कह सकते हो कि सॉफ्टवेयर तीन प्रकार के होते है

  • सिस्टम सॉफ्टवेयर।
  • एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर।
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर।

सिस्टम सॉफ्टवेयर

प्रोग्रामो का ऐसा समूह या ग्रुप जो कंप्यूटर प्रणाली के सभी कार्यों को पूरा करने में व उन्हें कार्य के लायक बनाए रखने के लिए तैयार करते है, सिस्टम सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर एक बेजान मशीन रह जाती है।

यह कंप्यूटर और इस्तेमाल कर्ता के बीच मध्यस्थता बनाए रखता है। डॉस (Dos), यूनिक्स (Unix) और मैकिंटोश (Mecintosh) ये सब सिस्टम सॉफ्टवेयर में आते है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर भी दो प्रकार के होते है, ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर, लैंग्वेज ट्रांसलेट सॉफ्टवेयर।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर Application Software

यह किसी विशेष कार्य के लिए तैयार किया गया Programo का समूह है। एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का निर्माण किसी विशेष कार्य या व्यक्ति की जरूरत के मुताबिक किया जाता है।

यह सिस्टम सॉफ्टवेयर और इस्तेमालकर्ता के बीच मध्यस्थता स्थापित करता है। ऐसी एप्लीकेशन का विकाश किसी ऑपरेटिंग सिस्टम को पूरा करने के लिए किया जाता है।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर Utility Software

इसका इस्तेमाल कई एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर मे किया जाता है और यह कंप्यूटर की कार्य क्षमता को भी बढ़ाता है।

यह कंप्यूटर के कामों को आसान बनाता है व वायरस से बचाता भी है।
Utility Software कई प्रकार के होते है जैसे डिस्क फॉर्मेटिंग, डिस्क क्लीनअप, बैकअप प्रोग्राम, एंटीवायरस यूटिलिटी, फाइल मैनेजर आदि।

सॉफ्टवेयर का आविष्कार किसने किया था?

अभी तक के लेख में लगभग हमने सॉफ्टवेयर के बारे में पूरी जानकारी जान ली है किंतु अभी एक जानकारी बाकी है।

वो है सॉफ्टवेयर का आविष्कार,चलिए जानते है।
सॉफ्टवेयर की खोज आधार नोवल्स नाम के व्यक्ति ने थी। इस प्रकार आप सॉफ्टवेयर की जानकारी जान चुके है।

FAQ,s

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर क्या है?

कंप्यूटर के लिए अनुदेशों को भेजना कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कहते हैं।

सॉफ्टवेयर का फुल फॉर्म क्या है?

सॉफ्टवेयर का फुल फॉर्म ऑपरेटिंग सिस्टम (Oprating System) होता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम (Oprating System) का शॉर्ट फॉर्म क्या है?

OS

कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर की क्या भूमिका है?

यह प्रोग्रामो और क्रियाओं की वह फाइल है जो Computer Sistem के सभी कार्यों को काबू करता है व कंप्यूटर के अलग अलग हार्डवेयर के बीच में समन्वय बनाता है। जिससे किसी टारगेट प्रोग्राम को बिना किसी रुकावट के सम्पूर्ण किया जा सकता है।

सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते है?

सॉफ्टवेयर तीन प्रकार के होते है –
1- System Software
2- Application Software
3- Utility Software

सॉफ्टवेयर की उपयोगिता क्या है?

यह प्रोग्रामो और क्रियाओं की वह फाइल है जो Computer Sistem के सभी कार्यों को काबू करता है व कंप्यूटर के अलग अलग हार्डवेयर के बीच में समन्वय बनाता है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या है?

प्रोग्रामो का ऐसा समूह या ग्रुप जो कंप्यूटर प्रणाली के सभी कार्यों को पूरा करने में व उन्हें कार्य के लायक बनाए रखने के लिए तैयार करते है, सिस्टम सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर एक बेजान मशीन रह जाती है।
यह कंप्यूटर और इस्तेमाल कर्ता के बीच मध्यस्थता बनाए रखता है।

निष्कर्ष –

मुझे आशा है कि हमारी Website HindiNote – टेक्नोलॉजी की जानकारी हिंदी में! यह “सॉफ्टवेयर क्या है? Software Kya Hai? जरूर पसंद आई होगी. में हमेशा यही कोशिश करता हूं कि पाठकों को अच्छे से अच्छे लेख पूरी तरह रिसर्च करके जानकारी प्रदान की जाएं ताकि पाठकों को दूसरे Site या ineternet में उस आर्टिकल के संदर्भ में खोजने की आवश्यकता नही हैं.

इससे साइट पर आने वाले पाठकों की समय की भी बचत होगी और एक ही आर्टिकल में पूरी जानकारी मिल जाएं. अगर फिर भी आपके मन में कोई आर्टिकल को लेकर कोई प्रश्न हो तो आप आर्टिकल के कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं आपकी हेल्प की जाएगी.

यदि आपको मेरी वेबसाइट HindiNote के इस article से कुछ सीखने को मिला तो कृपया आर्टिकल को सभी सोशल नेटवर्क जैसे Facebook, Whatsapp, Instagram, Teligram पर शेयर कीजिए, धन्यवाद ।

1 thought on “सॉफ्टवेयर क्या है सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं?”

Leave a Comment

x