निफ्टी क्या है, यह कैसे काम करती है?। What is Nifty in Hindi

निफ्टी क्या है, यह कैसे काम करती है? What is Nifty in Hindi

क्या आप जानते है निफ्टी क्या है, अगर आप नही जानते कि- निफ्टी क्या होता है, Nifty Price की गणना कैसे होती है?, निफ्टी की स्थापना कब हुई थी, निफ्टी का फुल फॉर्म और मीनिंग/मतलब क्या होता है? (What is Nifty, when was Nifty established, what is the full form and meaning of Nifty)। लेख में निफ्टी 50 के बारे में Nifty Kya Hai, Nifty Ka Full Form एवं निफ्टी का मतलब क्या होता है? की विस्तार से जानकारी बताई गई है।

स्टॉक मार्केट या शेयर मार्केट का नाम तो आपने सुना ही होगा, आज कल न्यूज पेपर और न्यूज चैनल पर हम Nifty और Sensex के बारे में पढ़ते और सुनते है। आप अपने आस पड़ोस में रोजाना ऐसा जरूर सुनते होंगे की आज Nifty 200 अंको की बड़त पर बंद हुआ या निफ्टी 300 अंको की गिरावट पर के साथ बंद हुआ।

अगर आप निफ्टी फिफ्टी के बारे में पूरी जानकारी जानकर निफ्टी में निवेश कर अच्छा खासा पैसा कमाना चाहते है तो इस लेख Nifty in Hindi को पूरा पढ़े, ताकि आप भी निफ्टी क्या है, यह सेंसेक्स से कैसे भिन्न है, निफ्टी का मतलब और निफ्टी का पुरा नाम के साथ शेयर मार्केट में निफ्टी का क्या महत्त्व है। निफ्टी में कितनी कंपनी होती है। चलिए जानते है कि आखिर निफ्टी क्या है, इसकी गणना कैसे की जाती है।

निफ्टी क्या है?

Nifty Kya Hai : निफ्टी भारत का नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कुल 50 महत्त्वपूर्ण स्टॉक के भाव का सूचकांक होता है। Nifty के अंदर भारत के प्रमुख 50 शेयर लिस्टेड होते है इसी कारण निफ्टी को Nifty 50 कहते है। Nifty, NSE का प्रमुख बेंचमार्क होता है। NSE का फुल फॉर्म Nation Stock Exchange of India होता है।

निफ्टी के अन्तर्गत आने वाले प्रमुख 50 शेयर के भाव को औसत निकालकर सूचित करता है। Nifty 50 भारत में सबसे ज्यादा Trade होने वाला एक मात्र Stock Index है। दूसरे स्थान पर सबसे ज्यादा Trade होने वाला Stock Exchange BSE है। वर्तमान समय में निफ्टी में 12 अलग अलग कंपनियों के 50 शेयर लिस्टेड है।

निफ्टी में 50 शेयर से ज्यादा शेयर लिस्टेड नही होते है, निफ्टी में ऐसी कंपनियों के स्टॉक इंडेक्स या लिस्टेड होते है जो अच्छा प्रदर्शन करते है। इसमें प्रतिवर्ष ऐसे स्टॉक को बाहर किया जाता है जिन कंपनियों के स्टॉक बहुत घाटे में होते है एवं ऐसे नए स्टॉक जोड़े जाते है जिनका परफॉर्मेंस हाल ही के समय में अच्छा रहा हो।

साधारण भाषा में बात करे तो भारत के प्रमुख 50 शेयर को मिलाकर निफ्टी बनाया गया है, निफ्टी में पैसा लगाना यानी निफ्टी में लिस्टेड सभी स्टॉक में पैसा लगाना होता है। हालाकि इन स्टॉक में अलग से भी निवेश कर सकते है जिसे हम साधारण शब्दों में Share Market के किसी एक शेयर में पैसा लगाना बोलते है।

निफ्टी काम कैसे करती है?

Nifty में प्रमुख 50 महत्वपूर्ण स्टॉक सूची बंद होते हैं इन सभी 50 स्टॉक के भाव की चाल के ऊपर ही निफ्टी काम करता है। जैसे मान लीजिए किसी दिन शेयर मार्केट में निफ्टी के अंदर लिस्टेड 50 शेयर में से 30 शेयर का भाव ऊपर गया एवं 20 शेयर का भाव नीचे गया, अब Nifty इन सभी 50 शेयरों का औसत के भाव का औसत निकलेगा जो कुछ अंको की बड़त दिखायेगा।

अगर इसके विपरीत किसी दिन निफ्टी में इंडेक्स सभी 50 शेयरों में से 30 शेयर का भाव नीचे चला जाता है एवं 20 शेयर का भाव वहीं यथावत या थोड़ा ऊपर आता है तो निफ़्टी इन 50 स्टॉक का औसत निकालकर कुछ अंकों की गिरावट दिखाएगा।

जब किसी स्टॉक में गिरावट आती है तो इसका मतलब यह होता है कि जिस कंपनी का वह स्टॉक है वह कंपनी घाटे में चल रही है, कंपनी घाटे में चलेगी तो उसके स्टॉक में भी गिरावट आएगी, अगर स्टॉक में गिरावट आएगी तो उसका असर निफ्टी पर पड़ेगा और निफ्टी में भी गिरावट आएगी।

निफ़्टी फिफ्टी के भाव कम और ज्यादा क्यों होते हैं अब आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा।

निफ्टी की गणना कैसे होती है?

How is Nifty calculated in Hindi?: निफ्टी की गणना या कैलकुलेशन निफ्टी में लिस्टेड सभी 50 स्टॉक के भाव के आधार पर निफ्टी की गणना की जाती है। निफ्टी में सूचीबद्ध प्रमुख सभी 50 शेयर में से अगर 70% शेयर का भाव किसी दिन बड़ जाता है तो निफ्टी इन सभी 50 शेयर्स के भाव का औसत निकालकर सूचकांक देता है, निफ्टी के इन्ही 50 शेयर के भाव कम और ज्यादा होने की स्थिति में सभी का औसत भाव है निफ्टी की गणना ऐसे ही की जाती है। NSE में करीबन 6000 Companies listed है। जिनमे से प्रमुख 50 कंपनियों के स्टॉक को NIFTY में लिस्टेड किया गया है, इन्ही 50 शेयर की गणना निफ्टी करता है।

निफ्टी की स्थापना कब हुई थी?

NIFTY की शरुआत 1996 में हुई थी। निफ्टी यानी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया सबसे ज्यादा भरोसेमंद सूचकांक है क्योंकि इसमें सबसे ज्यादा 50 प्रमुख कंपनियों के शहर लिस्टेड है। इसलिएइसका नाम Nifty 50 रखा गया जो NSE के अन्तर्गत आता है। NSE का फुल फॉर्म नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange) होता है। NSE विश्व का तीसरा बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है।

सेंसेक्स की शुरूआत 1986 में हुई थी, सेंसेक्स में 30 कंपनियों के स्टॉक लिस्टेड है। SENSEX को BSE यानी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज द्वारा संचालित किया जाता है। भारत में Nifty 50 के बाद सेंसेक्स दूसरे स्थान पर है।

निफ्टी का अर्थव्यवस्था पर असर

Impact of Nifty on Economy in Hindi: आप हमेशा न्यूज चैनल के द्वारा सुनते होंगे की देश की अर्थव्यवस्था कैसी है, आप यह भी सौंच रहे होगें की निफ्टी का अर्थव्यवस्था से क्या लेना देना है। निफ्टी में उतार और चढ़ाव का अर्थव्यवस्था पर क्या असर पड़ता है।

जब भी निफ़्टी अच्छा प्रदर्शन करती है, यानी अच्छी खासी बढ़त बनाती है तो इसका सीधा-सीधा यह मतलब है कि निफ्टी में इंडेक्स सभी 50 शहरों में से ज्यादातर शेयरों में तेजी रही। शेयर/स्टॉक के भाव में तेजी तब आती है जब उस शेयर की कंपनी को मुनाफा होता रहता है। भारत में सभी कंपनियां अगर फायदे में रहेगी तो इससे देश भी आगे बढ़ेगा, लोगों को रोजगार मिलेगा और अर्थव्यवस्था भी सुधरेगी।

इसके विपरीत अगर निफ़्टी में लगातार गिरावट रहती है यानी निफ्टी के भाव कम होते चले जाते हैं, तो इसका मतलब यह होता है कि जिन कंपनियों के भी शेयर्स निफ़्टी फिफ्टी के अंतर्गत आते हैं उन कंपनियों में से ज्यादातर कंपनियां घाटे में जा रही है। इसी कारण सटॉक का भाव लगातार गिरता जा रहा है, जिसका असर सीधा निफ्टी पर पड़ेगा, निफ़्टी गिरेगी तो उसका असर देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा। मतलब निफ़्टी में इंडेक्स सभी शेयर्स की कंपनियां ज्यादातर घाटे में चल रही है, अगर कंपनियां घाटे में चलेगी तो इससे देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ेगा अर्थव्यवस्था नीचे चली जाएगी।

निफ्टी का फुल फॉर्म

NIFTY का फुल फॉर्म National Stock Exchange Fifty होता है, जिसे हिंदी में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पचास कहते है।

निफ्टी से पैसे कैसे कमाए?

Nifty Se Paise Kaise Kamaye: NIFTY से पैसे कमाने के लिए पहले इसमें निवेश करना पड़ता है। Nifty में Trade करने के लिए आप निफ्टी में डायरेक्ट निवेश नही कर सकते। निफ्टी में निवेश के दो तरीके है जिसे Derivative Trading कहते है। Derivative Trading को दो भागो में बांटा गया है, पहला Nifty Future Trading, दूसरा Nifty Option Trading। निफ्टी को महीने बार के हिसाब से रखा गया है, जिसको Nifty की Future ट्रेडिंग कहते है। इसके अलावा छोटे निवेशको के लिए Nifty Option भी दिया गया है, जहां से आप बहुत कम पैसों से भी ट्रेड कर सकते है।

निवेश करने के पश्चात अगर निफ्टी में लिस्टेड 50 Stocks में से लगभग 30 स्टॉक का भाव ऊपर जायेगा तो निफ्टी भी ऊपर जायेगी, जिससे आपको फायदा होगा।

निफ्टी में कौन कौन सी कंपनियां हैं?

निफ्टी के अन्तर्गत 12 बड़ी कंपनियों के स्टॉक लिस्टेड है। चलिए जानते है- निफ्टी में कौन कौन सी कंपनी है, निफ्टी में कौन कौन से शहर आते हैं,।2022 में लिस्टेड निफ्टी 50 के शेयर की सूचि।

1TCS
2HDFC Bank
3Infosys
4ICICI Bank
5Hindustan Unilever
6State Bank of India
7HDFC
8Bajaj Finance
9Bharti Airtel
10Kotak Mahindra Bank
11HCL
12Wipro
13Asian Paint
14ITC
15Larsen
16Maruti Suzuki
17Bajaj Finserv
18Axis Bank
19Titan Co.
20Ultratech Cement
21Tata Motors
22Nestle
23ONGC
24Sun Pharma
25JSW Steel
26Adani Ports
27Power Grid
28TATA Steel
29Tech Mahindra
30HDFC Life Insurance
31NTPC
32Hindalco
33SBI LIFE Insurance
34indian Oil Corp
35Divi,s Lab
36Grasim Industries
37Mahindra And Mahindra
38Bajaj Auto
39Coal india
40Shree Cement
41Britania Inds
42BPCL
43Cipla
44Indusind Bank
45Dr Reddy’s
46Eicher Motors
47Gail India
48UPL
49Hero Motocorp
50Reliance Industries
Nifty Nifty Share list | Nifty 50 Stock List

निफ़्टी के फायदे

निफ्टी के बहुत से फायदे है, जिनकी जानकारी आपको होना चाहिए। Nifty Benifits को निमानुसार जानिए –

  1. Nifty से देश मंदी और तेजी का पता चलता है। अगर Nifty 50 की Price नीचे जायेगी तो इससे तुरंत अंदाजा लग जाता है कि देश में मंदी है।
  2. अगर Nifty 50 में तेजी आती है तो इसका यह मतलब है कि देश उन्नति के दौर में है।
  3. देश की अर्थव्यवस्था कैसी है इसका अंदाजा भी निफ्टी के भाव से पता लगाया जा सकता है। अगर किसी देश की अर्थव्यवस्था कमजोर होती है तो उस देश का मार्केट डाउन होता है। जैसे भारत में निफ्टी के द्वारा अर्थव्यवस्था का पता लगाया जा सकता है।
  4. देश की बड़ी बड़ी कंपनियां घाटे में है या फायदे में इसका अंदाजा भी निफ्टी से लगाया जा सकता है। अगर कोई कंपनी घाटे में चलेगी तो उसके स्टॉक में गिरावट आएगी, जिसका असर सीधा निफ्टी पर पड़ेगा, जिसके कारण निफ्टी में भी गिरावट आएगी।

निफ्टी और सेंसेक्स में अंतर

स्टॉक्स इंडेक्स के सूचकांक है Nifty और सेंसेक्स। लेकीन इनमे कुछ अंतर भी है, निफ्टी और सेंसेक्स एक दूसरे से कैसे भिन्न है, क्या ऐसी विशेषता है जो की इनमे कुछ समानता है तो कुछ अंतर है। चलिए Nifty और सेंसेक्स के बीच अंतर को जानते है –

  • Nifty, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange) यानी NSE के अन्तर्गत आता है जबकि SENSEX, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) के अन्तर्गत आता है।
  • Nifty, National Stock Exchange में 50 प्रमुख कम्पनियों के 50 शेयर सूचीबद्ध है, वही Sensex, Bombay Stock Exchange के अंर्तगत 30 कम्पनियों के 30 शेयर लिस्टेड है।
  • निफ्टी में देश के अच्छी और भरोसेमंद स्टॉक्स लिस्टेड है, जिसके चलते निफ्टी पर ज्यादा भरोसा दिखाया जाता है। सेंसेक्स दूसरे स्थान पर आता है जिसमे 30 स्टॉक्स इंडेक्स है।
  • दोनो का काम सूचकांक दिखाना है। भिन्नता सिर्फ शेयर की संख्या की है।
  • सेंसेक्स के मुकाबले निफ्टी में लोग निवेश करना ज्यादा पसंद है, क्योंकि इसमें जोखिम थोडा कम होता है।

Related Post-

FAQ,s

Q- निफ्टी क्या है इन हिंदी?

Ans- निफ्टी भारत का नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कुल 50 महत्त्वपूर्ण स्टॉक के भाव का सूचकांक होता है। Nifty के अंदर भारत के प्रमुख 50 शेयर लिस्टेड होते है इसी कारण निफ्टी को Nifty 50 कहते है। Nifty, NSE का प्रमुख बेंचमार्क होता है। NSE का फुल फॉर्म Nation Stock Exchange of India होता है।

Q- निफ्टी का फुल फॉर्म क्या होता है?

Ans- Nifty का फुल फॉर्म National Stock Exchange Fifty होता है।

Q- निफ्टी में निवेश कैसे करें?

Ans- Nifty में Trade करने के लिए आप निफ्टी में डायरेक्ट निवेश नही कर सकते। निफ्टी में निवेश के दो तरीके है जिसे Derivative Trading कहते है। Derivative Trading को दो भागो में बांटा गया है, पहला Nifty Future Trading, दूसरा Nifty Option Trading। निफ्टी को महीने बार के हिसाब से रखा गया है, जिसको Nifty की Future ट्रेडिंग कहते है। इसके अलावा छोटे निवेशको के लिए Nifty Option भी दिया गया है, जहां से आप बहुत कम पैसों से भी ट्रेड कर सकते है।

Q- निफ्टी कैसे काम करता है?

Ans- शेयर मार्केट में निफ्टी के अंदर लिस्टेड 50 शेयर में से 30 शेयर का भाव ऊपर गया एवं 20 शेयर का भाव नीचे गया, अब Nifty इन सभी 50 शेयरों का औसत के भाव का औसत निकलेगा जो कुछ अंको की बड़त दिखायेगा।
अगर इसके विपरीत किसी दिन निफ्टी में इंडेक्स सभी 50 शेयरों में से 30 शेयर का भाव नीचे चला जाता है एवं 20 शेयर का भाव वहीं यथावत या थोड़ा ऊपर आता है तो निफ़्टी इन 50 स्टॉक का औसत निकालकर कुछ अंकों की गिरावट दिखाएगा।

निष्कर्ष –

निफ्टी क्या होता है, इसकी गणना कैसे होती है? लेख से जरूर कुछ सीखने को मिला होगा। Nifty Kya Hota Hai लेख को बहुत रिसर्च कर तैयार किया गया ताकि आपको Nifty 50 in Hindi की सटीक जानकारी मिले। लेख में निफ्टी में कौन कौन सी कंपनी है, निफ्टी में कौन कौन से शहर आते है, Nifty Full Form, Nifty Me Kitni Company Hai, निफ्टी में निवेश कैसे करें, जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपके मन में निफ्टीक्या है इन हिंदी? से संबंधित कोई प्रश्न हो तो कॉमेंट करे, आपकी सहायता की जावेगी।

Nifty 50 Kya Hai, लेख को अपने सभी दोस्तों, रिश्तेदार को सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के द्वारा शेयर करे ताकि उनको भी निफ्टी के बारे में जानकारी मिल सके। धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

x