म्यूचुअल फंड के फायदे और नुकसान Advantage And Disadvantage of Mutual Fund in Hindi

म्यूचुअल फंड के फायदे और नुकसान Mutual Fund Ke Fayde Aur Nuksan

क्या आप जानते हैं कि म्यूचुअल फंड क्या है (Mutual Fund Kya Hai), अगर नहीं जानते कि – म्यूचल फंड के फायदे और नुकसान क्या है Advantages and disadvantages of Mutual Fund in Hindi?। लेख में “Mutual Fund Ke Fayde or Nuksan kya hai” (Benefits and Risks of Mutual Fund in Hindi) के बारे में जानकारी दी गई है।

आज के दौर में सब अपना धन किसी न किसी माध्यम से निवेश करना चाहते हैं, इसका ही एक प्रसिद्ध माध्यम है म्यूचल फंड। म्यूचल फंड के माध्यम से आप अपना धन निवेश कर सकते हैं। लेकिन म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना सही है या नहीं। चलिए सबसे पहले जानते है कि – Mutual Fund Kya Hai, म्यूचुअल फंड की परिभाषा के बाद Mutual Fund Ke Fayde Kya Hai (Benefits of Mutual Funds in Hindi) और Mutual Fund Me Jokhim (risk in mutual funds) के बारे में जानेंगे।

Contents

म्यूचुअल फंड क्या है? What is Mutual Fund in Hindi

म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) एक तरह का सम्मिलित निवेश होता है, जिसमे निवेश करने वाले सभी निवेशकों के समूह मिलकर स्टॉक (Share) में अल्प या लंबी अवधि के लिए लाभ कमाने के उद्देश्य से निवेश करते है। म्यूचुअल फंड को हिंदी भाषा में पारंपरिक निधि कहते है, जबकि इसको इंग्लिश में म्यूचल फंड के नाम से ही जाना जाता है, Mutual Fund नाम से ही आज हर कोई पारंपरिक निधि को जानते हैं। अब आपको, म्यूचुअल फंड के फायदे और नुकसान (Benifits And Risk of Mutual in Hindi) के बारे में बताते हैं।

म्यूचुअल फंड के फायदे और नुकसान

Mutual Fund Ke Fayde Aur Nuksan: म्यूच्यूअल फंड से लाभ लेने के लिए आप इसमें निवेश करना चाहते हैं लेकिन म्यूच्यूअल फंड की तरफ सेंड कंडीशन अगर आप ध्यान से पड़ेंगे तो आपको पता चलेगा कि म्यूच्यूअल फंड से आपको लाभ ही मिले। म्यूचुअल फंड में निवेश करना पूरी तरह सुरक्षित नहीं है क्योंकि इसमें कभी-कभी हानि भी हो जाती है जिससे म्यूचल फंड में जोखिम का भी चांस रहता है।

अगर आप सोचते हैं कि विज्ञान विज्ञापनों के द्वारा बताए अनुसार हम म्यूचल फंड में निवेश करेंगे तो हम म्यूचल फंड से काफी मुनाफा कमा सकते हैं तो यह आपकी एक नासमझी होगी। इसीलिए आपको आज म्यूचल फंड के फायदे और नुकसान दोनों की जानकारी को विस्तारपूर्वक बताएंगे ताकि आपको पता चले कि म्यूचल फंड में निवेश करना सही है या गलत करना चाहिए या नहीं करना चाहिए। चलिए जानते है, क्या फायदे है म्यूचुअल फंड में निवेश करने के।

म्यूचुअल फंड के फायदे Advantages of Mutual Fund in Hindi

Mutual Fund Benifits के बारे में निम्न टॉपिक्स के द्वारा जानिए –

प्रोफेसनल मैनेजमेंट की उपलब्धता

आप जब भी म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो उसी निवेश मैं से कुछ पैसा एक्सपेंस रेश्यो के रूप में काट लिया जाता है। यह पैसा इसलिए काटा जाता है, क्योंकि आपके पोर्टफोलियो को मैनेज करने के लिए कुछ ऐसा पेशेवर फंड मैनेजर को भी दिया जाता है। फंड मैनेजर अपने अनुभव के आधार पर कोशिश करते हैं कि कम से कम जोखिम पर ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाकर आपको रिटर्न दे सकें।

एक म्यूच्यूअल फंड निवेशक से एक्सपेंस रेश्यो काफी कम लिया जाता है क्योंकि इसमें बहुत सारे लोग कम या ज्यादा पैसा इन्वेस्ट करते हैं इन सभी से थोड़ा थोड़ा एक्सपेंस रेश्यो लिया जाता है, इससे होता यह है कि फंड को मैनेज करने का खर्चा थोड़ा-थोड़ा करके सभी व्यक्तियों में विभाजित होने से फंड मैनेजर को भी आसानी होती है और निवेशकों को भी फायदा रहता है।

कम राशि (धन) निवेश करने की सुविधा

Mutual Fund की सबसे बड़ी विशेषता यह की इसमें आप बहुत ही कम पैसों में इन्वेस्ट कर मुनाफा कमा सकते हैं। जबकि आप डायरेक्ट Share Market में निवेश करने जाओगे तो आपको बहुत पूंजी की आवश्यकता होगी।

म्यूचुअल फंड में कम से कम 500 रूपये या 1000 रूपये से भी इन्वेस्ट कर सकते हो, यह म्यूच्यूअल फंड का बहुत बड़ा फायदा है। अगर आपके पास बजट अच्छा है तो इसमें आप इसमें 2000 से 5000 कमी चल फंड विनिवेश कर सकते हो।

उद्देश्य प्राप्ति में आसानी

जिस कार्य को हम एक साथ नहीं कर पाते, अगर उसी कार्य के लिए हम म्यूचल फंड के माध्यम से निवेश कर थोड़ा-थोड़ा फंड इकट्ठा कर बाद में करेंगे तो वह कार्य हमारा पूर्ण हो जाएगा। म्यूच्यूअल फंड में निवेश करना एक ऐसा जरिया है अगर इसमें आप लंबे समय तक इन्वेस्ट करते हो तो आप इसके द्वारा अपने बड़े से बड़े लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर सकते हो।

उदाहरण के लिए मान लीजिए जैसे आपको मकान बनाना है जिसके लिए आपके पास इकट्ठा पैसा नहीं है और आपके पास में कोई ऐसा इनकम सोर्स भी नहीं है जिसके आधार पर बैंक से आप अच्छा खासा लोन ले सको। लेकिन म्यूच्यूअल फंड के द्वारा आप महीने या 6 महीने या फिर 12 महीने की किस्त बनाकर इसमें थोड़ा थोड़ा पैसा इन्वेस्ट करोगे और कुछ समय बाद आप पाओगे कि आपके पास में इतना पैसा इकट्ठा हो जाएगा कि आप आसानी से वही कार्य नगद पैसों से भी कर सकते हो।

ज्यादा रिटर्न मिलने के चांस

Mutual Fund में अन्य निवेशों के मुकाबले बहुत अच्छा और आकर्षक रिटर्न मिलता है, इसका यह बहुत बड़ा फायदा रहता है।

SIP अपनी पावर ऑफ कंपाउंडिंग की वजह से काफी महत्वपूर्ण और लोकप्रिय है। इसमें आप जितने लंबे समय तक अपने निवेश को होल्ड करके रखोगे उतने ही रिटर्न के चांस ज्यादा बढ़ जाते हैं। और ज्यादातर अच्छा रिटर्न ही मिलता है।

सभी प्रकार के म्यूचुअल फंड की उपलब्धता

अगर आप म्यूचल फंड स्कीम में निवेश करते हैं तो यहां पर आपको अनेक प्रकार की म्यूच्यूअल फंड की कैटेगरी मिल जाएगी। आपको जिस भी मित्र फंड में अपना इन्वेस्ट करना है उसका पहले का रिकॉर्ड पता करें जिसका रिकॉर्ड अच्छा हो जो रिटर्न अच्छा देता हूं उसमें आपको इन्वेस्ट करना है। सीधा सा मतलब है कि म्यूचुअल फंड में हमको बहुत सारे ऑप्शन मिलते हैं हम अपनी पसंद के मुताबिक किसी भी मिचल फंड में अपना निवेश कर सकते हैं जो कि एक बहुत ही अच्छी बात है।

कुछ ऐसे निवेशक भी होते हैं जो बहुत कम रिक्स लेना चाहते हैं वे डेविड फंड का चुनाव कर सकते हैं। म्यूचुअल फंड में इक्विटी, हाइब्रिड, डेट जैसे स्कीम किस विकल्प की उपलब्धता है। उदाहरण के लिए अगर आप थोड़ा रिक्स ले सकते हैं तो आप इक्विटी फंड के साथ जाएं, यहां पर अच्छे रिटर्न के चांस भी ज्यादा होते हैं।

सेक्टर विविधता होने से निवेश में सरलता

Mutual Fund में तरह तरह के सेक्टर और एसेट उपलब्ध होते है जिसके चलते निवेश में विविधता बनी रहती है। निवेश में विविधता होने के कारण ही म्यूच्यूअल फंड का यह सबसे बड़ा फायदा माना जाता है।

उदाहरण के लिए जैसे कि ऑटो या बैंकिंग सेक्टर में किसी कारणवश या अचानक मंदी आ जाती है इसका हमारे द्वारा निवेश किए गए म्यूच्यूअल फंड के पोर्टफोलियो पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा।

निवेश करने के आसान तरीके

आज से कुछ समय पहले म्यूचुअल फंड में निवेश करना बहुत जटिल होता था। लेकीन अब ऐसा नहीं है, म्यूचुअल फंड कैसे खरीदे? इसका समाधान आज बहुत आसान है। Mutual Fund में Invest करने के लिए जिस भी Mutual Fund कंपनी में इन्वेस्ट करना चाहते है, तो ऑनलाइन मोबाइल या स्मार्टफोन की मदद से उस कंपनी की अधिकारिक वेबसाइट या ऐप पर जाकर उनके प्लान को समझने के बाद Invest कर सकते हो।

वर्तमान समय में ऐसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म मोजूद है जो स्पेशल म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करने का ही काम देखता है। म्यूचुअल फंड इन्वेस्ट ऐप Kuvera App, Groww App, Cams आदि की मदद ले सकते है। साथ ही उक्त ऐप्स की सहायता से अपने म्यूचुअल फंड रिटर्न, ग्रोथ भी ट्रैकिंग कर सकते है।

न्यूनतम एक्सपेंस रेश्यो फीस

Mutual Fund में जब आप निवेश करते हो तो आपसे एक्सपेंस रेश्यो के रूप में बहुत ही कम करीबन 1% फीस ली जाती है। इसी एक्सपेंस रेश्यो की फीस से म्यूचुअल फंड के प्रोफेसनल फंड मैनेजर हमारे पैसों को मैनेज करता है एवं कोशिश करता है कि आप को अधिक से अधिक रिटर्न दिलवाया जाए।

कम समय में म्यूचुअल फंड में निवेश

पहले के समय में म्यूचुअल फंड में निवेश करना काफ़ी कठिन और जठिल प्रिक्रिया होती थी।

लेकिन जब से इंटरनेट और डिजिटल दौर का विकाश हुआ है, जिसके चलते आज के समय में Mutual Fund करना बहुत ही आसान हो गया है। आज आप जिस भी म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते है उसके लिए बस आपको गूगल पर उसकी अधिकारिक वेबसाइट को ओपन करना है, यहां से आप बड़ी आसानी से म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट कर सकते हो। इसके अलावा आज कल हर म्यूचुअल फंड कंपनी का ऐप भी होता है जिसको आप प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते है एवं इसका इस्तेमाल करके भी आप म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं।

बार बार मॉनिटर करने की झंझट नहीं

स्टॉक मार्केट (Share Market) में निवेश करने पर आपको बार बार अपने स्टॉक की वैल्यू और एनालिसिस करना पड़ता है, जबकि Mutual Fund में ऐसा नहीं है, इसमें आप जैसे 6 महीने या फिर 1 साल के लिए इन्वेस्ट करके छोड़ सकते है। इसमें आपको बार-बार एवं प्रतिदिन एनालिसिस करने की जरूरत नहीं पड़ती है।

SEBI की निगरानी होने से सुरछित पूंजी

म्यूच्यूअल फंड कंपनियां सेबी द्वारा रजिस्टर्ड होती है, इन म्यूच्यूअल फंड कंपनियों का नियामक संस्था सेबी होता है। SEBI का सभी म्यूच्यूअल फंड कंपनियों पर नियंत्रण होने से सभी म्यूच्यूअल फंड कंपनियों को नियमों का पालन करवाने हेतु बाध्य करता है।

पब्लिक का पैसा म्यूच्यूअल फंड कंपनियों में सुरक्षित माना जाता है क्योंकि म्यूच्यूअल फंड कंपनियां सेबी के अधीन पंजीकृत होती है। SEBI एक सरकारी संस्थान है।

Withdrawal प्रिक्रिया में आसानी

बीमा पॉलिसी जेसी स्कीमों से म्यूच्यूअल फंड का पैसा निकालना बहुत आसान होता है। बहुत सारी बीमा पॉलिसी कंपनियां ऐसी होती है जिनमें हम निवेश करते हैं तो उनका एक लॉक इन अवधि का समय होता है अगर मान लीजिए आपको पैसे की जरूरत है आप उस पॉलिसी को जमा नहीं कर पा रहे हैं तो आप वह पैसा नहीं निकाल सकते जब तक आपकी लॉक इन अवधि पूरी ना हो जाए। लेकिन म्यूच्यूअल फंड में ऐसा नहीं है म्यूचुअल फंड में आप कभी भी किसी भी समय अपना पैसा अपने अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड में निवेश किया हुआ पैसा निकालने के लिए आपको Withdrawal रिक्वेस्ट डालना होता है Withdrawal रिक्वेस्ट डालने के 24 से 48 घंटे के अंदर अंदर आपके द्वारा निवेश किया हुआ म्यूच्यूअल फंड का पैसा आपके अकाउंट में क्रेडिट कर दिया जाता है।

म्यूचुअल फंड के नुकसान Disadvantages of Mutual Fund in Hindi

मुनाफे की अनिश्चितता

बहुत सारे इन्वेस्टमेंट कंपनियां ऐसी होती है जिनमें हमको इन्वेस्ट करते हैं तो पहले से बता दिया जाता है कि आपको इतने समय तक अपना पैसा इन्वेस्ट करके रखना है और इतना समय बाद आपको इतना परसेंट मुनाफा होगा वह फिक्स कर दिया जाता है। जबकि म्यूच्यूअल फंड में मुनाफा कितना मिलेगा यह कोई निश्चित नहीं होता है।

म्यूचुअल फंड में रिटर्न की अनिश्चितता इसलिए होती है क्योंकि म्यूच्यूअल फंड का मुनाफा डायरेक्ट स्टॉक मार्केट यानी शेयर मार्केट से जुड़ा हुआ होता है। शेयर मार्केट कभी भी ऊपर नीचे जा सकता है।

मान लीजिए कोई म्यूच्यूअल फंड आपने ₹100 की कीमत पर खरीदा और वह 1 साल बाद घटकर ₹80 की कीमत पर रह गया, तो आपको उस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट किए हुए पैसे में ₹20 का घाटा लगेगा। इसके विपरीत अगर आपने कोई म्यूच्यूअल फंड ₹100 के भाव में खरीदा और वह बढ़कर ₹120 हो गया तो उस म्यूचुअल फंड में आपको मूलधन के साथ-साथ ₹20 का मुनाफा भी होगा।

लंबी अवधि एक्सपेंस रेश्यो का अधिक चार्ज

जब भी आप और हम किसी भी कंपनी में म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो उसी फंड में से कुछ पैसा एक्सपेंस रेश्यो के रूप मे फंड हाउस को चला जाता है। एक्सपेंस रेशों का चार्ज कम अवधि के लिए म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो यह कम लगता है लेकिन जैसे ही हम जिसकी अवधि बढ़ाते हैं 5 साल से 10 साल के बीच में म्यूचुअल फंड करते हैं तो इसका चार्ज भी अधिक हो जाता है।

किसी भी म्यूच्यूअल फंड में इन्वेस्ट करने से पहले हमको उसके चार्ज के बारे में जरूर जानकारी लेना चाहिए क्योंकि बिना जाने हम म्यूचल फंड में इन्वेस्ट करेंगे तो बाद में हमको कुछ चार्जेस ज्यादा भी देना पड़ सकता है। इसलिए आप किसी भी म्यूच्यूअल फंड में इन्वेस्ट करने से पहले उसकी टर्म्स एंड कंडीशन को जरूर ध्यान से पढ़ें।

म्यूच्यूअल फंड भी अलग-अलग प्रकार के होते हैं इनमें से कुछ भी चल फंड ऐसे होते हैं जिनमें लॉक इन अवधि होती है। आपको यह ध्यान रखना है अगर आपके पास लिमिटेड पैसा है और आपको कभी भी जरूरत पड़ सकती है तो आपको लॉक इन अवधि वाले म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट नहीं करना है।

अगर आपके पास बचत का पैसा है और आप अच्छा रिटर्न पाना चाहते हैं तो फिर आप लोग किन अवधि वाले म्यूच्यूअल फंड में अपना इन्वेस्ट कर सकते हैं जिसमें अधिक रिटर्न मिलने के चांस भी बढ़ जाते हैं।

कम मुनाफा

म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट हमेशा यह सोचकर करना चाहिए कि हमको हमारा मूलधन मिल जाए हमारा पैसा इकट्ठा हो जाए और कुछ इसमें मुनाफा मिल जाए। लेकिन अगर आप यह सोचते हो कि म्यूचुअल फंड से हम अच्छा खासा मुनाफा कमा लें तो यह सही नहीं है म्यूचुअल फंड में बहुत कम रिटर्न मिलता है।

म्यूचल फंड की वजह अगर आपको शेयर मार्केट काचा नॉलेज है तो आप अच्छी कंपनी के स्टॉक में इन्वेस्ट करके बढ़िया एनालिसिस कर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं, जो आपको म्यूच्यूअल फंड से कहीं अधिक गुना मुनाफा कम समय में दे देंगे।

समय समय पर अपने Mutual Fund को नही देखना

Mutual Fund में जब हम किसी निश्चित अवधि के लिए इन्वेस्ट कर देते हैं तो ज्यादातर लोग यह गलती करते हैं कि उसको देखना ही बंद कर देते हैं। अपने म्यूच्यूअल फंड को समय-समय पर विवो करना चाहिए।

रिव्यू करने का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि मान लीजिए कोई म्यूच्यूअल फंड स्टॉक घाटे में चला जाता है और आने वाले समय में भी उसका दाम वापस बढ़ने की कोई उम्मीद ना हो तो उसको हमको किसी अन्य म्यूचल फंड में कन्वर्ट कर देना चाहिए।

इसलिए यह माना जाता है कि म्यूचुअल फंड में मुनाफा अनिश्चित होता है, कितना मुनाफा होगा कोई गारंटी नहीं होती है कितना घटा चला जाए उसकी भी कोई गारंटी नहीं होती है।

Mutual Fund Return पर Tax

म्यूचुअल मैं इन्वेस्ट करते हैं तो हमको कोई यह नहीं बताता है कि जब आपको यह पैसा रिटर्न मिलेगा तो उस पर भी टैक्स देना होता है। जिससे हमारे मुनाफे में कुछ परसेंट की कमी आती है।

अगर आप इक्विटी में 12 महीने से कम अवधि के लिए म्यूचल फंड में इन्वेस्ट करते हैं तो आपसे रिटर्न के समय 15 परसेंट के करीबन टैक्स वसूला जाता है। अगर आप 12 महीने से अधिक समय के लिए म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करते हैं तो आपको एलटीसीजी टैक्स 10 परसेंट पैसा देना होता है।

इसलिए सभी को म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करने से पहले इन सब चीजों को जान लेना बहुत जरूरी है।

Related Post –

FAQ,s

Q- म्यूच्यूअल फंड स्कीम क्या है?

Ans- म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) एक तरह का सम्मिलित निवेश होता है, जिसमे निवेश करने वाले सभी निवेशकों के समूह मिलकर स्टॉक (Share) में अल्प या लंबी अवधि के लिए लाभ कमाने के उद्देश्य से निवेश करते है।

Q- इंडिया की सबसे बड़ी म्यूच्यूअल फंड संस्था कौन सी है?

Ans- SBI Mutual Fund

Q- म्यूचुअल फंड में कम से कम कितना निवेश कर सकते हैं?

Ans- रू 500 से शुरू कर सकदे है.

Q- What is Mutual Fund in Hindi?

Ans- Mutual Fund एक तरह का सम्मिलित निवेश होता है, जिसमे निवेश करने वाले सभी निवेशकों के समूह मिलकर स्टॉक (Share) में अल्प या लंबी अवधि के लिए लाभ कमाने के उद्देश्य से निवेश करते है। म्यूचुअल फंड को हिंदी भाषा में पारंपरिक निधि कहते है, जबकि इसको इंग्लिश में म्यूचल फंड के नाम से ही जाना जाता है, Mutual Fund नाम से ही आज हर कोई पारंपरिक निधि को जानते हैं।

Q- म्यूचुअल फंड कितने प्रकार के होते हैं?

Ans- म्यूचुअल फंड 5 प्रकार के होते हैं.

Q- म्यूचुअल फंड कैसे काम करता है?

Ans- म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) एक तरह का सम्मिलित निवेश होता है, जिसमे निवेश करने वाले सभी निवेशकों के समूह मिलकर स्टॉक (Share) में अल्प या लंबी अवधि के लिए लाभ कमाने के उद्देश्य से निवेश करते है। म्यूचुअल फंड को हिंदी भाषा में पारंपरिक निधि कहते है, जबकि इसको इंग्लिश में म्यूचल फंड के नाम से ही जाना जाता है, Mutual Fund नाम से ही आज हर कोई पारंपरिक निधि को जानते हैं।

Q- म्यूचुअल फंड कैसे खरीदें?

Ans- ऑनलाइन डिमैट अकाउंट या फिर अपने किसी नेट बैंकिंग के द्वारा जो म्यूच्यूअल फंड की सुविधा देता है।

Q- सबसे बेस्ट म्यूचुअल फंड कौन सा है?

Ans- 1- निप्पॉन इंडिया स्मॉल कैप फंड
2- एक्सिक्स मिड कैप फंड
3- पीजीआईएम इंडिया मिड कैप फंड

Q- सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाला म्यूच्यूअल फंड कौन सा है?

Ans- केनरा रोबोको म्युचुअल फंड ने पिछले पांच वर्षों में सबसे अच्छा रिटर्न दिया है।

Q- म्यूचुअल फंड के नुकसान क्या है?

Ans- 1-मुनाफे की अनिश्चितता. 2- लंबी अवधि एक्सपेंस रेश्यो का अधिक चार्ज. 3- कम मुनाफा. 4- समय समय पर अपने Mutual Fund को नही देखना. 5- Mutual Fund Return पर Tax.

Q- म्यूचुअल फंड में निवेश करने के क्या फायदे हैं?

Ans- अच्छे Mutual Fund में थोडा थोडा निवेश कर आप कुछ समय बाद अच्छा एकमुस्त पूंजी एकत्रित कर सकते हो।

Q- म्यूचुअल फंड से कमाई कैसे करें?

Ans- Mutual Fund में थोडा थोडा निवेश कर आप कुछ समय बाद अच्छा एकमुस्त पूंजी एकत्रित कर पैसा कमा सकते है।

निष्कर्ष –

इस पोस्ट में Mutual fund Kya Hai, Mutual Fund Ke Fayde Aur Nuksan Kya Hai? के बारे में जानकारी बताई गई, हम सभी को Mutual Fund बहुत ही सोच समझकर करना चाहिए। मेरे ख्याल से हमारे इस लेख Matual Fund Benifits And Risk से आपको मेचुअल फंड के बारे में जानकारी अच्छे से समझ में आ गई होगी।

में हमेशा पूरा प्रयास और काफी रिसर्च करके लेख के द्वारा सभी पाठको तक जानकारी पहुंचता हूं ताकि किसी भी यूजर्स को जो हमारी “HindiNote – Technology in Hindi” वेबसाइट पर जिस जानकारी के लिए आया है उसे वो जानकारी मिले और उससे संतुष्ट होकर जाए ताकि दूसरी वेबसाइट पर जाकर सर्च न करना पड़े।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

x